श्री सूर्य देव जी







श्री सूर्य देव

दोस्तों आज हम श्री सूर्य देव जी के बारे मे जानेगे हिन्दू धर्म के अनुसार भगवान सूर्य देव एक मात्र ऐसे देव हैं जो साक्षात लोगों को दिखाई देते हैं श्री सूर्य देव के बारे मे वेदों और पुराणों में भी वर्णन किया गया है। इसके अलावा एक प्रत्यक्ष देव के रूप में सूर्य देव का वर्णन कई जगह किया गया है। इनकी पत्नी दो हे जिनका नाम अदिति और छाया है तथा उनके पुत्र श्री शनि देव है जिन्हें न्याय का देवता कहा जाता है। श्री सूर्य देव जी को वैसे 
कई नामों से जाना जाता है मगर उन के मुख्य नाम ये है इन नामो को रोज सुबह बोलने से आप के सभी कार्य बन जाएंगे 

1. भास्कर
2. नित्यानन्द
3. हिरण्यगर्भ्
4. सूर्य
5. तरुण
6. रवि
7. अमरेश
8. ओजस्कर
9. भक्तवश्य
10. ऐश्वर्यद
11. भगवत्
12. रुग्घन्त्र्

श्री सूर्य देव जी का मूल मंत्र

ऊँ सूर्याय नम:

श्री सूर्य देव जी अर्घ्य देते समय का मंत्र

ऊँ ह्रीं ह्रीं सूर्याय, सहस्त्रकिरणाय।
मनोवांछित फलं देहि देहि स्वाहा:

सूर्य गायत्री मंत्र

ऊँ सप्ततुरंगाय विद्महे सहस्त्रकिरणाय धीमहि तन्नो रवि: प्रचोदयात्

श्री सूर्य देव जी का पुत्र प्राप्ति के लिए मंत्र

ऊँ भास्कराय पुत्रं देहि महातेजसे, 
धीमहि तन्नः सूर्य प्रचोदयात्

श्री सूर्य देव जी का पराक्रम मंत्र

ऊँ घृणिं सूर्य्य: आदित्य:

श्री सूर्य देव जी की आरती

ऊँ जय सूर्य भगवान, जय हो दिनकर भगवान।
जगत् के नेत्र स्वरूपा, तुम हो त्रिगुण स्वरूपा।
धरत सब ही तव ध्यान, ऊँ जय सूर्य भगवान॥
॥ ऊँ जय सूर्य भगवान...॥

सारथी अरूण हैं प्रभु तुम, श्वेत कमलधारी। 
तुम चार भुजाधारी॥
अश्व हैं सात तुम्हारे, कोटी किरण पसारे।
तुम हो देव महान॥
॥ ऊँ जय सूर्य भगवान...॥

ऊषाकाल में जब तुम, उदयाचल आते। 
सब तब दर्शन पाते॥
फैलाते उजियारा, जागता तब जग सारा। 
करे सब तब गुणगान॥
॥ ऊँ जय सूर्य भगवान...॥

संध्या में भुवनेश्वर अस्ताचल जाते। 
गोधन तब घर आते॥
गोधुली बेला में, हर घर हर आंगन में। 
हो तव महिमा गान॥
॥ ऊँ जय सूर्य भगवान...॥

देव दनुज नर नारी, ऋषि मुनिवर भजते। 
आदित्य हृदय जपते॥
स्त्रोत ये मंगलकारी, इसकी है रचना न्यारी। 
दे नव जीवनदान॥
॥ ऊँ जय सूर्य भगवान...॥

तुम हो त्रिकाल रचियता, तुम जग के आधार। महिमा तब अपरम्पार॥
प्राणों का सिंचन करके भक्तों को अपने देते। 
बल बृद्धि और ज्ञान॥
॥ ऊँ जय सूर्य भगवान...॥

भूचर जल चर खेचर, सब के हो प्राण तुम्हीं। 
सब जीवों के प्राण तुम्हीं॥
वेद पुराण बखाने, धर्म सभी तुम्हें माने। 
तुम ही सर्व शक्तिमान॥
॥ ऊँ जय सूर्य भगवान...॥

पूजन करती दिशाएं, पूजे दश दिक्पाल। 
तुम भुवनों के प्रतिपाल॥
ऋतुएं तुम्हारी दासी, तुम शाश्वत अविनाशी। शुभकारी अंशुमान॥
॥ ऊँ जय सूर्य भगवान...॥

ऊँ जय सूर्य भगवान, जय हो दिनकर भगवान।
जगत के नेत्र रूवरूपा, तुम हो त्रिगुण स्वरूपा॥
धरत सब ही तव ध्यान, ऊँ जय सूर्य भगवान॥

English Translation


Shree Surya Dev


 Friends, today we will know about Shri Surya Dev ji, according to Hindu religion, Lord Surya Dev is the only God who can be seen by a person who has been mentioned in the Vedas and Puranas.  Apart from this, Sun God has been described in many places as a direct God.  His wife is two, whose name is Aditi and Chhaya and his son is Shri Shani Dev, who is called the God of Justice.  To Shri Surya Dev ji

 Known by many names, but their main names are: By speaking these names every morning, all your work will be done.


 1. Bhaskar

 2. Nityananda

 3. Hiranyagarbh

 4. Sun

 5. Tarun

 6. Ravi

 7. Amresh

 8. Ojaskar

 9. Devotee

 10. Aishwaryad

 11. Bhagavat

 12. Rugtantra


 Basic mantra of Shri Surya Dev Ji


 Om Surya Namah:


 Mantra while giving argya to Sri Surya Dev ji


 On and on Surya, Sahastrakarnay.

 Desired fruit dehi dehi swaha:


 Surya Gayatri Mantra


 Om Saptaturangay Vidmahe Sahastrakarnray Dheemahi Tanno Ravi: Prachodayat


 Mantra for getting son of Shri Surya Dev ji


 Un Bhaskarai's sons Dehi Mahatej,

 Dheemahi Tannah Surya Prachaodayat


 Mighty mantra of shri sun god


 Om Ghritin Surya: Aditya:


 Aarti of Shri Surya Dev Ji


 Jai Sun God, Jai Ho Dinkar Bhagwan.

 You are the triple form of the eye of the world.

 Dharat all meditation

 4  Lord Om Sun God ...


 Charioteer Arun is God, you are white lotus.

 You four sides 4

 The horse is seven yours, Koti Kiran pasare

 You are great God

 4  Lord Om Sun God ...


 When you used to come to Udayachal in the summer.

 Everyone would then see

 Spreading light, awake then awake

 Praise all then

 4  Lord Om Sun God ...


 Bhubaneswar would visit Asthachal in the evening.

 Godhan then came home.

 In Godhuli Bella, every house in every courtyard.

 Ho tava glory song

 4  Lord Om Sun God ...


 Dev Danuj male female, sage Munivar Bhajate.

 Aditya chanting heart

 This mangkari is the source, its creation is unique.

 Give new life

 4  Lord Om Sun God ...


 You are the trike creator, you are the basis of the world.  Glory then infinite

 Used to give the devotees their own after sprinkling life.

 Strength and knowledge॥

 4  Lord Om Sun God ...


 You are the land of all things, you are the soul of everyone.

 You are the soul of all living beings.

 Ved purana bakhane, religion should be considered by all of you.

 You all are powerful.

 4  Lord Om Sun God ...


 Worshiping directions, Puja Das Dikpal.

 You are the guardian of Bhuvan.

 Masons are your maidservants, you are eternal indestructible.  Shubhakari Anshuman 4

 4  Lord Om Sun God ...


 Jai Sun God, Jai Ho Dinkar Bhagwan.

 Eye of the world, you are the triple form.

 Dharat all meditation

Comments